शुक्रवार, 16 मई 2014

आदिवासी विमर्श पर डॉ. इसपाक अली को डीलिट

डॉ, इसपाक अली, डीलिट 
उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा के हैदराबाद केंद्र के अंतर्गत ‘आदिवासी जीवन : भारतीय समाज और हिंदी साहित्य’ विषय पर प्रस्तुत शोधप्रबंध के लिए डॉ. इसपाक अली को संस्थान की  डीलिट (हिंदी) की उपाधि प्रदान की गई है. डॉ. इसपाक अली हिंदी साहित्य और शिक्षा शास्त्र के मर्मज्ञ विद्वान हैं तथा लंबे समय से सभा के बैंगलोर स्थित बीएड महाविद्यालय में प्राचार्य के रूप में कार्यरत हैं. उन्होंने अपना डीलिट शोधकार्य प्रो. ऋषभ देव शर्मा के निर्देशन में संपन्न किया है. उनके शोधप्रबंध में एक ओर तो विस्तार से भारतीय समाज में आदिवासी जीवन के अतीत और वर्तमान का भौगोलिक, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक परिप्रेक्ष्य में विवेचन किया गया है तथा दूसरी  ओर विभिन्न विधाओं में रचित दलित जीवन केंद्रित और दलित विमर्शात्मक हिंदी साहित्य का विशद विश्लेषण और मूल्यांकन भी किया गया है. इस दृष्टि से यह अपनी तरह का पहला शोधकार्य है.

- डॉ. इसपाक अली को हार्दिक शुभकामनाएँ.