शनिवार, 1 अक्तूबर 2016

साठये महाविद्यालय में द्विदिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी संपन्न


26-27 सितंबर, 2016 को विले पार्ले, मुंबई स्थित साठये महाविद्यालय में संपन्न द्विदिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी के उद्घाटन सत्र में इसके केंद्रीय विषय के विविध आयामों को समटते 528 पृष्ठीय ग्रंथ ''भूमंडलीकरण  के परिप्रेक्ष्य में साहित्य, समाज, संस्कृति और भाषा'' का लोकार्पण करते हुए (बाएँ से) डॉ. सिराजुद्दीन एस. नुर्मातोव (उज्बेकिस्तान), डॉ. गंगाप्रसाद शर्मा 'गुणशेखर (चीन), डॉ. रामकिशोर शर्मा (बीज भाषणकर्ता), डॉ. रामेश्वर सिंह (रूस), डॉ. सुरेश चंद्र शुक्ल (नार्वे), डॉ. कविता रेगे (सत्र अध्यक्ष), डॉ. विद्योत्तमा कुंजल (मारीशस), डॉ. योगेंद्र प्रताप सिंह (अयोध्या), डॉ. प्रदीप कुमार सिंह (संयोजक व संपादक) एवं डॉ. ऋषभदेव शर्मा (संचालक).


26-27 सितंबर, 2016 को विले पार्ले, मुंबई स्थित साठये महाविद्यालय में संपन्न द्विदिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी के उद्घाटन सत्र में इसके केंद्रीय विषय के विविध आयामों को समटते 528 पृष्ठीय ग्रंथ ''भूमंडलीकरण  के परिप्रेक्ष्य में साहित्य, समाज, संस्कृति और भाषा'' का लोकार्पण करते हुए (बाएँ से) डॉ. सिराजुद्दीन एस. नुर्मातोव (उज्बेकिस्तान), डॉ. गंगाप्रसाद शर्मा 'गुणशेखर (चीन), डॉ. रामकिशोर शर्मा (बीज भाषणकर्ता), डॉ. रामेश्वर सिंह (रूस), डॉ. सुरेश चंद्र शुक्ल (नार्वे), डॉ. कविता रेगे (सत्र अध्यक्ष), डॉ. विद्योत्तमा कुंजल (मारीशस), डॉ. योगेंद्र प्रताप सिंह (अयोध्या), डॉ. प्रदीप कुमार सिंह (संयोजक व संपादक) एवं डॉ. ऋषभदेव शर्मा (संचालक).


शनिवार, 24 सितंबर 2016

[स्रवंति] बदलती चुनौतियाँ और हिंदी की आवश्यकता : प्रो. ऋषभदेव शर्मा


 "बदली हुई परिस्थितियों के परिप्रेक्ष्य में हिंदी को राष्ट्रभाषा और राजभाषा जैसी नारेबाजी से दूर रखकर, भाषा के रूप में प्रचारित-प्रसारित किए जाने की जरूरत है – जिसे मनुष्य सूचनाओं के आदान-प्रदान, जिज्ञासाओं की शांति, आत्मा की अभिव्यक्ति और संप्रेषण की सिद्धि के निमित्त सीखा करते हैं। भावुकता और बाध्यता दोनों ही अतियाँ हैं। भाषा मनुष्य की सहज आवश्यकता के रूप में सीखी जाती है। हम इस सहज आवश्यकता का अनुभव करें-कराएँ, तो हिंदी भी सहजता से पढ़ी-पढ़ाई, सीखी-सिखाई जा सकती है। विश्वविद्यालयों के हिंदी विभागों से लेकर स्वैच्छिक हिंदी प्रचार संस्थाओं तक को चाहिए कि वे अपने घिसेपिटे रवैये को बदलें और हिंदी को अधुनातन ज्ञान की व्यावहारिक भाषा के रूप में प्रचारित-प्रसारित करें।"





बुधवार, 21 सितंबर 2016

विश्व वात्सल्य मंच की बैठक संपन्न



 

हैदराबाद. 
18 सितंबर, 2016  को  विश्व वात्सल्य मंच, हैदराबाद और वैश्विक हिंदी सम्मलेन, मुंबई  की एक  बैहक मुरारका पैलेस में संपन्न हुई. हिंदी को तकनीकी से जोड़ने पर चर्चा हुई. काव्यपाठ तो हुआ ही.डॉ. मोती लाल गुप्ता 'आदित्य' और डॉ. अहिल्या मिश्र का सम्मान किया गया.अध्यक्षता प्रो. ऋषभदेव शर्मा ने की.

मंगलवार, 20 सितंबर 2016

आ प्र हिंदी अकादमी में व्याख्यान 20 सितंबर, 2016 को

डेली हिंदी मिलाप : 20 सितंबर, 2016 : पृष्ठ 17

देवा प्रसाद मयला की छह पुस्तकें लोकार्पित





लोकार्पण समारोह : 17 सितंबर,2016
डेली हिंदी मिलाप  :  20 सितंबर,2016  : पृष्ठ 2.

मिश्र धातु निगम में हिंदी पक्षोत्सव समापन समारोह


====मिश्र धातु निगम में हिंदी पक्षोत्सव समापन समारोह : 14 सितंबर 2016 ====
डेली हिंदी मिलाप : 20 सितंबर 2016 : पृष्ठ 17