शुक्रवार, 18 जुलाई 2014

27 अगस्त को राष्ट्रपति भवन में सम्मानित होंगे 28 हिंदी सेवी

प्रसन्नता का विषय है कि वर्ष 2010 और 2011 के लिए पूर्व घोषित केंद्रीय हिंदी संस्थान के पुरस्कार आगामी 27 अगस्त 2014 को नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति के हाथों प्रदान किए जाएँगे. इन पुरस्कारों से पुरस्कृत विद्वानों को भारत के राष्ट्रपति एक लाख रुपए नगद, शाल और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित करते हैं. 

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय हिंदी संस्थान द्वारा राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हिंदी के प्रचार,प्रसार और विकास में योगदान के लिए वर्ष 2010 और 2011 के लिए सात श्रेणियों में 28 हिंदी सेवियों को पुरस्कृत करने की घोषणा की गई थी जिसके अनुसार हिंदी पत्रकारिता के लिए दिए जाने वाले गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार से दिलीप चौबे, रवीश कुमार, शिवनारायण और गोविंद सिंह को सम्मानित किया जाएगा.

वहीं, हिंदी आलोचना के क्षेत्र में दिए जाने वाले सुब्रहमण्यम भारती पुरस्कार से प्रो़. सुधीश पचौरी, प्रो़. नित्यानंद तिवारी, प्रो. दिलीप सिंह और श्याम सुंदर दुबे को सम्मानित किया जाएगा. हिंदी में खोज और अनुसंधान के लिए दिए जाने वाले महापंडित राहुल सांस्कृत्यायन पुरस्कार से प्रो़. असगर वजाहत, वेद राही, परमानंद पांचाल और रघुवीर चौधरी को चुना गया है.

इसके अलावा, विदेशी हिंदी विद्वान वर्ग में दिए जाने वाले जार्ज ग्रियर्सन पुरस्कार से डॉ. शमतोव आजाद (उजबेकिस्तान) और डॉ. उ जो किम (दक्षिण कोरिया) को सम्मानित किया जाएगा और विदेशों में हिंदी के प्रसार के लिए मोटूरि सत्यनारायण पुरस्कार से मदनलाल मधु (रूस) और तेजेंद्र शर्मा (इंग्लैंड) को सम्मानित किया जाएगा.

हिंदीतर भाषी राज्यों में हिंदी के प्रचार के लिए दिए जाने वाले गंगाशरण सिंह पुरस्कार से आर.एफ. नीरलकटटी, पद्मा सचदेव, जान्हू बरूआ, एस.ए. सूर्यनारायण वर्मा, एच. बालसुब्रमण्यम, राबिन दास, टी.आर. भटट और एस.एम. कुलचंद्र शर्मा को सम्मानित किया जाएगा. वहीं, वैज्ञानिक तकनीकी साहित्य तथा उपकरण विकास के क्षेत्र में कार्य के लिए दिए जाने वाले आत्माराम पुरस्कार से अनिल कुमार चतुर्वेदी, काली शंकर, महेश डी कुलकर्णी और विजय कुमार मल्होत्रा को सम्मानित किया जाएगा. 


- वशिनी शर्मा, 53, कैलाश विहार, आगरा - 7 (उ.प्र), मोबाइल - +91 9837392009