सोमवार, 31 मार्च 2014

बेलगाम - राष्ट्रीय संगोष्ठी - समापन सत्र

बाएं से - डॉ. ऋषभ देव शर्मा, डॉ. टी.आर. भट्ट, डॉ. जयशंकर यादव और डॉ. अर्जुन चव्हाण 

30 मार्च 2014

उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, मद्रास द्वारा स्नातकोत्तर केंद्र, डॉ. बी.डी. जत्ती शिक्षा महाविद्यालय, बेलगाम के आयोजित द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी 'पुण्य स्मरण : कैलाशचंद्र भाटिया, राजेंद्र यादव, परमानंद श्रीवास्तव, ओमप्रकाश वाल्मीकि' का समापन सत्र संपन्न हुआ. 

समापन समारोह की अध्यक्षता डॉ. जयशंकर यादव ने की. डॉ. टी. आर. भट्ट और डॉ. ऋषभ देव शर्मा ने संगोष्ठी पर प्रतिक्रया व्यक्त की और आशा की कि यह रागात्मक और भावनात्मक संबंध बना रहे. बतौर मुख्य अतिथि डॉ. अर्जुन चव्हाण ने संगोष्ठी के आयोजकों को बधाई दी और आशा व्यक्त की कि भविष्य में इसी तरह के आयोजन होते रहें. 

अध्यक्षीय टिप्पणी करते हुए डॉ. जयशंकर यादव ने कहा कि बेलगाम के इस स्नातकोत्तर भवन में दो दिनों तक भाषाई सौहार्द अंतःसलिला के रूप में प्रवाहित होता रहा. यह आनंद ही साहित्य का और जीवन का सरोकार है.

समापन सत्र का संचालन उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, बेलगाम केंद्र के प्रभारी डॉ. वी.एन. हेगडे ने किया. उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, बेलगाम केंद्र के प्राध्यापक डॉ. सी.एन. मुगुटकर ने धन्यवाद ज्ञापित किया तथा सामूहिक जन-गण-मन के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ.