सोमवार, 13 जनवरी 2014

चेन्नई अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मलेन : समापन समारोह

प्रमाण पत्र स्वीकार करते हुए डॉ. ऋषभ देव शर्मा. (डॉ. मधु धवन से डॉ. दिलीप सिंह तक सभी प्रमुदित हैं!)

12 जनवरी 2014 को तमिलनाडु हिंदी साहित्य अकादमी-चेन्नई, केंद्रीय हिंदी निदेशालय - नई दिल्ली, केंद्रीय हिंदी संस्थान-आगरा, स्टेल्ला मॉरिस (स्वायत्तशासी) कॉलेज-चेन्नई, तमिलनाडु बहुभाषी लेखिका धर्मार्थ संघ- चेन्नई के तत्वावधान में आयोजित त्रिदिवसीयअंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मलेन का समापन समारोह संपन्न हुआ. समापन समारोह की अध्यक्षता प्रो. दिलीप सिंह ने की. 

इस अवसर पर डॉ. हबीबुल्लो रजाबोव, ईश्वर करुण, डॉ. मधु धवन आदि मंच पर उपस्थित थे. सम्मेलन में भाग लेने वाले सभी प्रतिभागियों, छात्रों, शोधार्थियों, साहित्यकारों, हिंदी सेवियों और विद्वानों को संस्था की ओर से समानित किया  गया.

(सम्मेलन/ समारोह के चित्र अभी प्रतीक्षित हैं. इस बीच डॉ. राजकुमार नायक (चेन्नई) के सौजन्य से जो चित्र प्राप्त हुए हैं उन्हें यहाँ लगा रही हूँ.)
                                                                                                                                                              - जी. नीरजा 


 अंडमान - निकोबार से पधारीं  डॉ. एन. लक्ष्मी : प्रमाण पत्र स्वीकार करते हुए

हैदराबाद के पी. आर. घनाते, चेन्नई के डॉ. राजकुमार नायक और
 गोरखपुर के डॉ. चितरंजन मिश्र के साथ डॉ. ऋषभ देव शर्मा 
डॉ. गुर्रमकोंडा नीरजा को अंगवस्त्र से सम्मानित करते हुए डॉ. हबीबुल्लो रजाबोव (ताजिकिस्तान)
डॉ. हबीबुल्लो रजाबोव से प्रमाण पत्र और "साहित्य सेवी सम्मान" स्वीकार करते हुए डॉ. गुर्रमकोंडा नीरजा.

डॉ. हबीबुल्लो रजाबोव से प्रमाण पत्र और "साहित्य सेवी सम्मान" स्वीकार करते हुए डॉ. गुर्रमकोंडा नीरजा.
साथ में डॉ. मधु धवन, श्री ईश्वर करुण.
बैठे हुए - प्रो. दिलीप सिंह और छत्तीसगढ़ी फिल्म अभिनेता अनुज शर्मा 


आपकी तो सदा जरूरत है आदरणीया !
(डॉ. मधु धवन को डॉ. ऋषभ देव शर्मा का आश्वासन)